Total Pageviews

Saturday, June 24, 2017

बच-बच कर जीने की कला

वे इसीलिए
बच गए हैं
कि पहचाने नहीं गए हैं
लेकिन वे डरे हुए हैं
एक न एक दिन
उन्हें ज़रूर
पहचान लिया जायेगा
शर्बत में शक्कर की तरह
घुलमिल जाने के बाद भी।
इस तरह बच-बचकर
जीने की कला
वे सिखा रहे
अपने बच्चों को भी
कि शायद इस तकनीकी से
बचे रह जाएँ
कुछ ज्यादा दिन
कुछ ज्यादा बरस
कि तब तक शायद
हमेशा जीवित रहने की
मिल जाए सनद।।।।

Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...