Total Pageviews

Saturday, February 10, 2018

अपने हक़ की बात

Image result for speech
हम कब कह पायेंगे
अपने हक़ की बात
उसके सामने और सबके सामने
कब जुटा पायेंगे हिम्मत
कब कह पायेंगे
बिना नशा किये अपने मन की बात
कब कह पायेंगे
बिना गिड़गिड़ाये
बिना हकलाये
बिना सकुचाये
अपने मन की बात
कि आज तक सीखा है हमने
सलीके से बात करने का हुनर
कि आज तक सिखाया गया है
आवाज़ नीची रखना
कि आज तक नजरें झुकाए
थोड़ा थरथराये से
कहते हैं इस तरह बात
कि मिल जाए डांट
दुत्कार
तिरस्कार
तुम्हें मालूम है न
कोई बात कहने के लिए
हम कितनी बार करते हैं रिहर्सल
भाषा बदल-बदल कर
भंगिमा बदल-बदल कर
खुद ही खुद से करते हैं इल्तिजा
खुद ही एक नये पैंतरे के साथ
गढ़ते हैं इस तरह वाक्य
कि बात भी बन जाए
और तिरस्कार भी न हो

जाने कब होगा ऐसा
कि बिना सम्पादन किये
कह सकेंगे हम अपने हक़ की बात
एक दम डायरेक्ट...