Total Pageviews

Sunday, February 21, 2010

sanket 4

संकेत का नया अंक प्रकाशित हो गया है
यह अंक महेश चन्द्र पुनेठा की कविताओं पर केन्द्रित है
एक कविता
ये सीढ़ी दार खेत
हाड तोड़ मेहनत के बाद भी
नहीं होता है इनमे
सालभर का अनाज
कभी अतिवृस्ती 
कभी अनावृस्ती
बच गयी अगर 
प्रकृति की मार  से
जंगली जानवरों से बचना
एक संघर्ष है मुश्किल भरा...
सहयोग राशी  दस रूपया विशेष सौ रूपया 
संपर्क 
अनवर सुहैल, टाइप ४/३,  बिजुरी, अनुपपुर एम् पी ४८४४४० 

Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...