Total Pageviews

Friday, March 12, 2010

अनवर सुहैल: sanket 4

अनवर सुहैल: sanket 4

महेश चन्द्र पुनेठा की कविताएँ पहाड़ के कठिन jivan   की  jhanki  prastut  करती हैं kripya  ank  pane  के liye nimn pate par sampark karen ya ru 50.00 ka dhanadesh bhejen

Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...