Total Pageviews

Sunday, September 26, 2010

azaan, babri masjid, namazi, anwar suhail

पास मस्जिद से आती
अज़ान की आवाज़
गूंज रही है कानो में
'हय्या अलस सलात
हय्या अलल फलाह'
यानि नमाज़ की तरफ आओ
यानि भलाई की तरफ आओ
मैं इस पुकार को करके अनसुना
देखता टीवी पर आती ख़बरें
बाबरी मस्जिद बचाने में लगे लोगो को
देता अपना मौन समर्थन
जबके मेरे घर के पास की मस्जिद
नमाज़ों की राह तकते उदास है....

Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...