Total Pageviews

Tuesday, October 12, 2010

दुःख दूजा

                                                  दुःख दूजा  
घर से निकला 
तो दुखी था इतना 
कि ऐसा क्यों होता है 
सिर्फ  मेरे  साथ ही 
क्यों  हमेशा ली जाती है परीक्षा 
मेरे धैर्य की , मेरी योग्यता की

वहाँ पहुंचा तो 
                                                      तो लोगों की कतार देख 
                                                      मेरा दुःख हुआ हल्का 
                                                      चलो अच्छा है 
                                                      कि वहां    मैं अकेला नहीं था 
                                                      मेरे  सिवा वहां 
                                                      और भी थे दुर्भागी....



Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...