Total Pageviews

Thursday, October 6, 2011

हिना फिरदौस के रेखांकन


वह बोलती रेखाओं की भाषा
जीवन की इक नई परिभाषा
देती पिता को भरपूर दिलासा
"मुझमे है आशा ही आशा. "

Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...