Total Pageviews

Thursday, November 10, 2011


चुप रहने के अपने मज़े हैं
चुप रहने के अपने फायेदे हैं
इसीलिए हमारे समय के कवि
चुप्पी साधे हैं ....
बोल कर खतरे कौन उठाए भला...