Total Pageviews

Saturday, November 12, 2011

डूबता सूरज

एक :
जो हमारी निगाह में
पाप है , गुनाह है , अक्षम्य है
वही उनके निजाम को
बचाए रखने का
बनाए रखने का
सबसे बड़ा हथियार है...
यही तो इस युग की विडम्बना है...


दो :

डूबता सूरज
झांक रहा पहाड़ के पीछे से
लगता है मन नहीं उसका
उस पार जाने को
खलिहान में व्यस्त किसान के
चेहरे पर दमक रही सूर्य की आभा
इस साल फसल भी तो अच्छी हुई है.....

Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...