Total Pageviews

Thursday, March 6, 2014

महा-ग्रन्थ
















मूल तत्व से 
ज्यादा थीं व्याख्याएं 
व्याख्यायों से 
ज्यादा थीं पाद-टिप्पणियाँ 
ग्रन्थ के आधे से ज्यादा पृष्ठ 
भरे थे सन्दर्भ ग्रथ-सूचि से 
महा-ग्रन्थ का मूल्य था 
एक सामान्य मजदूर की 
दिहाड़ी पचास गुना....

इस ग्रन्थ को
सबसे पहले पढ़ा लेखक ने
फिर कोम्पोजीटर ने
फिर प्रूफ-रीडर ने
ग्रन्थ के विमोचन-कर्ता
विद्वान लेखक ने फिर पढ़ा ग्रन्थ

उसके बाद पुस्तकालयों में
एक सन्दर्भ संख्या के साथ
सुशोभित रहा महा-ग्रन्थ
इस उम्मीद से
कि शायद किसी महा-विनाश के बाद
बचा रह जायेगा ग्रन्थ
तो फिर उसे बांचेंगे पुरातत्व-वेत्ता...
और कयास लगायेंगे
कि गुज़री हुई पीढ़ी
थी कितने समृद्ध सोच वाली.....

Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...