Total Pageviews

Monday, March 27, 2017

हम हसेंगे साथी...

Image result for संघर्ष

हम हसेंगे साथी
खराब मौसमों में भी
आँधियों की परवाह किये बिना
हम हसेंगे साथी
कि हमारी हंसी 
उन्हें डराती है
खराब मौसमों की साजिशें
तोड़ नहीं पातीं जिजीविषा हमारी
हम उसी लगन से
उसी उत्साह से
फिर-फिर उठ खड़े होते हैं
गमजदा रात में भी नींद का एक छोटा सा टुकड़ा
कितना काफी है एक पूरे दिन को
प्रतिकूलताओं के साथ जीने के बाद
जबकि उनकी नींदों में बेशक हमारी हंसी के ठहाके
किसी भयानक दुस्वप्न की तरह उन्हें जगा देते होंगे
ज़ुल्म करने में ज्यादा तनाव होता होगा
ज़ुल्म सहकर हँसते रहने में
ज़िन्दगी कितनी लज़ीज़ हो जाती है
इसे तुम क्या समझोगे जालिमों?

Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...