Total Pageviews

Tuesday, March 28, 2017

जोड़ दो जब जिससे चाहे हमारा नाम

Image result for first rebellion in history
जोड़ दो जब जिससे चाहे हमारा नाम
और उन लोगों का नाम भी
जिनने की बात हमारे हक में
और हम हैं कि कितना भी रोयें
छाती पीटें, छनछ्नाएं, कु्लबुलायें
जिससे तनिक भी न डोले उनका मन

जोड़ दो जब जिससे चाहे हमारा नाम
अब कैसे बताएं कि हम हैं कौन
हम वे तमाम लोग हो सकते हैं
जो रहते हरदम शक के दायरे में
जिनके नाम सुनकर चुप हो जाते वे
या अचानक तैश में आ जाते वे
या तिरस्कार से बिसोरते मुंह
या उनमें बढ़ जाती सरगोशियाँ
कि हर हाल में हमारी सक्रिय उपस्थिति
सहने को जैसे मजबूर हैं वे

उनकी तिलमिलाहट से हम जैसे लोग
प्रतिरोध के औज़ार चमकाने लगते हैं
और ये औज़ार हैं कागज़-कलम, तूलिका
विचार, शब्द, दृष्टि, छेनी-हथोडी
और इन सबके साथ सच कहने का साहस
जोड़ दो जब जिससे चाहे हमारा नाम
प्रतिकूलताओं में ही चलता हमारा काम....


Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...