Total Pageviews

Thursday, January 19, 2012

-कोड ऑफ़ कंडक्ट-

‎-कोड ऑफ़ कंडक्ट-

वो सिंह है
वो त्रिपाठी है
वो श्रीवास्तव है
उनसे मजदूरों जैसा
न करो बर्ताव
उनसे न लो टेढ़े-मेढ़े
मेहनत वाले काम
उनसे बात करो तो
अदब से
उन्हें पुकारो तो
उनके नाम के साथ
लगावो 'जी'
मसलन ---
'सिंह जी' 'त्रिपाठी जी' 'श्रीवास्तव जी'

बाकी कामो के लिए तो हैं ही
अपने पास
बेचू, सोमारू, मंगल, गरीबा...
आखिर किसलिए भर्ती किया गया है इन्हें !

Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...