Total Pageviews

Tuesday, January 24, 2012

vote do...


हम हैं चोर-उचक्के
उनकी तरह डकैत नहीं
हम हैं उठाईगीरे
उनकी तरह लुटेरे नहीं
हम हैं चक्कूबाज़ ओनली
उनकी तरह हत्यारे नहीं
अब तो आप समझ गए होंगे
कि राजनीति के मैंदान के
कितने कच्चे खिलाड़ी हैं हम
कितने मासूम हैं हम
पुलिस थाना में रसूख के कारण
हमारा कोई अपराधी रिकार्ड भी नही
क्या अब भी आप हमें वोट नहीं देंगे...?

Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...