Total Pageviews

Saturday, January 19, 2013

tum kaisi harkat karte ho....

तुम कैसे बहके-बहके हो


तुम कैसे उलझे-सुलझे हो

तुम कैसी बातें करते हो

तुम कैसी हरकत करते हो

कोई जान नहीं पाता है

कोई बूझ नहीं पाता है

सब तुमसे डरते रहते हैं

सब तुमरी बातें करते हैं

चाहे तुम उनको देखो न

चाहे तुम उनको चाहो न

चाहे तुम उनको दुतकरो

फिर भी वो तुमपे मरते हैं

सब तुमसे उल्फत करते हैं...

Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...