Total Pageviews

Saturday, April 22, 2017

उम्मीदें मरती नहीं


Image result for ummeed

















उम्मीदें मरती नहीं
इसीलिए इंसान जिंदा है
इंसान का जिंदा रहना लाजिमी है
इंसान है तो हुकूमतें हैं
इंसान हैं तो संविधान है 
इंसान हैं तो कैदखाने हैं
इंसान हैं तो कत्लगाह हैं
इंसान हैं तो बाज़ार हैं
इंसानी बस्तियों को अँधेरे से सजाकर
बाजारों में रौनक बढ़ाई गई है
आसमानी किताबों में वर्णित स्वर्ग जैसे दृश्य
फुटपाथ पर छितराए जिस्म टकटकी लगाये देखते हैं
खैनी या बीडी से भूख को हज़म करने का हुनर
कोई सीखे इन इंसानों से
जो अट्टालिकाओं की नींव में दफ़न होकर भी
शुकराना अदा करते हैं उस ईश्वर का
जो हुकूमतों को दिव्यता प्रदान करता है
और इंसानों को क्षुद्रता में संतुष्टि का वरदान देता है

हुकूमतें सांचे में ढले इंसान चाहती हैं
एक जैसे हुकुम बजा लाते इंसान
एक जैसे कतारबद्ध इंसान
एक जैसे जयजयकार करते इंसान
इन्हीं इंसानों में से खोज लेती हैं हुकूमतें
इतिहासकार, व्याख्याकार और न्यायशास्त्री भी
इन्हीं इंसानों में होते हैं भांड, गवैये और आलोचक
हुकूमतों को सवाल करते इंसानों से नफरत है
हुकूमतों को प्रतिरोध के स्वर नागवार लगते हैं
हुकूमतें खूंखार कुत्तों की फौज छोड़ देती है ऐसे बददिमागों पर
फिर भी हुकूमतों के निजाम को बरकरार रखने के लिए
इंसान चाहिए ही चाहिए
एकदम एक सरीखे किसी फैक्ट्री से निकले उत्पाद की तरह
रैपर कोई भी लगा हो लेकिन अन्दर माल वही हो
जो हुक्मरानों को पसंद आये......

Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...