Total Pageviews

Tuesday, April 25, 2017

मुहब्बतें डर रही हैं

Image result for hate
नफरतें थीं
लेकिन मुहब्बतें भी कम न थीं
बीच-बीच में थोडा-थोडा
सब कुछ रहे आता था
मुहब्बत की भीनी हवाएं
बहा ले जाती थीं अपने साथ
नफरतों के गर्दो-गुबार

अबके जाने कैसी हवा चली
कि मुहब्बतें डर रही हैं
और नफरतों के खौफनाक मंज़र
आँखों से नींद भगा ले जाते हैं

कोई अचानक धमकियाँ दे डालता है
एक ऐसे नर्क में धकेल देने की
कि काँप उठती रूह
ऐसे में कोई अगर मरहम लगा जाए
तो जैसे ज़ख्म का दर्द कम हो जाए
लेकिन नहीं आता कोई चारागर सामने

बढती जा रही है ज़ख्मियों की संख्या
कोई उम्मीदबर नहीं आती
कोई सूरत नज़र नहीं आती
कोई दमदार आके समझा दे
वरना ये जान मुश्किलों में है......


Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...