Total Pageviews

Thursday, September 5, 2013

ओ तालिबान !

जिसने जाना नही इस्लाम 
वो है दरिंदा 
वो है तालिबान...

सदियों से खड़े थे चुपचाप 
बामियान में बुद्ध 
उसे क्यों ध्वंस किया तालिबान 

इस्लाम भी नही बदल पाया तुम्हे 
ओ तालिबान 
ले ली तुम्हारे विचारों ने 
सुष्मिता बेनर्जी की जान....

कैसा है तुम्हारी व्यवस्था 
ओ तालिबान!
जिसमे तनिक भी गुंजाइश नही 
आलोचना की 
तर्क की 
असहमति की 
विरोध की...

कैसी चाहते हो तुम दुनिया 
कि जिसमे बम और बंदूकें हों 
कि जिसमे गुस्सा और नफ़रत हो 
कि जिसमे जहालत और गुलामी हो 
कि जिसमे तुम रहो 
और रह पायें तुम्हे मानने वाले...

मुझे बताओ 
क्या यही सबक है इस्लाम का...?

Featured Post

सबकुछ को बदलने की ज़िद में गैंती से खोदकर मनुष्यता की खदान से निकाली गई कविताएँ

------------------शहंशाह आलम  मैं बेहतर ढंग से रच सकता था प्रेम-प्रसंग तुम्हारे लिए ज़्यादा फ़ायदा था इसमें और ज़्यादा मज़ा भी लेकिन मैंने ...